Click here for Myspace Layouts

समर्थक

शुक्रवार, 31 जुलाई 2009

आज का सद़विचार 'धनी'

अधिक धन- सम्‍पन्‍न होने पर भी जो असंतुष्‍ट रहता है,
वह निर्धन है, धन से रहित होने पर भी जो संतुष्‍ट है,
वह सदा धनी है ।

- अश्‍वघोष

गुरुवार, 30 जुलाई 2009

आज का सद़विचार 'राग-द्वेष'

जिसके मन में राग-द्वेष नहीं है और जो तृष्‍णा को,
त्‍याग कर शील तथा संतोष को ग्रहण किए हुए है,
वह संत पुरूष जगत के लिए जहाज है।

बुधवार, 29 जुलाई 2009

आज का सद़विचार 'क्रोध''

क्रोध बुद्धि को घर से बाहर,
निकाल देता है और दरवाजे पर,
चटकनी लगा देता है ।

- प्‍लूटार्क

मंगलवार, 28 जुलाई 2009

आज का सद़विचार ' सच'

सच बोलने का सबसे बड़ा फायदा यह,
है कि आपको यह याद नहीं रखना,
पड़ता की किससे क्‍या कहा था ।

- राबर्ट बेंसन

सोमवार, 27 जुलाई 2009

आज का सद़विचार 'श्रम'

जिस श्रम से हमें आनन्‍द प्राप्‍त होता है,
वह हमारी व्‍याधियों के लिए अमृत,
तुल्‍य है, हमारी वेदना की निवृत्‍ित है ।

- शेक्‍सपीयर

शनिवार, 25 जुलाई 2009

आज का सद़विचार 'सुख'

दुनियावी चीजों में सुख की तलाश,
फिजूल होती है। आनन्‍द का खजाना,
तो कहीं हमारे भीतर ही है।

- स्‍वामी रामतीर्थ

शुक्रवार, 24 जुलाई 2009

आज का सद़विचार 'कृतज्ञता'

किसी कृतज्ञता को तत्‍काल चुकाने,
का प्रयत्‍न करना एक प्रकार की,
कृतज्ञता ही है।

- अज्ञात

बुधवार, 22 जुलाई 2009

आज का सद़विचार 'मौन'

मौन सर्वोत्‍तम भाषण है, अगर बोलना,
जरूरी हो तो भी कम से कम बोलो,
एक शब्‍द से काम चले तो दो नहीं ।

- महात्‍मा गांधी

सोमवार, 20 जुलाई 2009

आज का सद़विचार 'आदर्श'

आदर्श को पकड़ने के लिए सहस्‍त्र बार,
आगे बढ़ों और यदि फिर भी असफल,
हो जाओ तो एकबार नया प्रयास,
अवश्‍य करो ।

- स्‍वामी विवे‍कानन्‍द

शनिवार, 18 जुलाई 2009

आज का सद़विचार 'शत्रु'

जो शत्रु तुम पर आक्रमण करता है,
उससे मत डरो, उन मित्रों से डरो,
जो तुम्‍हारी चापलूसी करते हैं।

- जनरल ओवगोन

शुक्रवार, 17 जुलाई 2009

आज का सद़विचार 'बुराई'

हर वर्ष एक बुरी आदत को मूल से खोदकर,
फेंका जाए तो कुछ ही वर्षों में बुरे से बुरा,
व्‍यक्ति भला हो सकता है।

- सुकरात

गुरुवार, 16 जुलाई 2009

आज का सद़विचार ' आशा'

आशा और आत्‍मविश्‍वास से ही हमारी,
शक्तियां जागृत होती हैं, इनसे हमारी,
उत्‍पादन शक्ति कई गुना बढ़ जाती है ।

- स्‍वेट मार्डेन

बुधवार, 15 जुलाई 2009

आज का सद़विचार 'भलाई-बुराई'

भलाई से बढ़कर जीवन और,
बुराई से बढ़कर मृत्‍यु नहीं है ।

- आदिभट्ल नारायण दासु

सोमवार, 13 जुलाई 2009

आज का सद़विचार 'योग्‍यता'

बिना उचित अवसर के योग्‍यता किसी काम की,
नहीं है भले आप में लाख गुण हों लेकिन यदि,
अवसर नहीं मिला तो योग्‍यता व्‍यर्थ है।

- नेपोलियन बोनापार्ट

शुक्रवार, 10 जुलाई 2009

आज का सद़विचार 'स्‍वप्‍न'

लक्ष्‍य को ही अपना जीवन कार्य समझो हर,
समय उसका चिंतन करो उसी का स्‍वप्‍न,
देखो और उसी के सहारे जीवित रहो ।

- स्‍वामी विवेकानन्‍द

गुरुवार, 9 जुलाई 2009

आज का सद़विचार 'लक्ष्‍मी'

लक्ष्‍मी शुभ कार्य से उत्‍पन्‍न होती है,
चतुरता से बढ़ती है, अत्‍यन्‍त निपुणता से,
जड़े जमाती है और संयम से स्थिर रहती है।

- महाभारत

बुधवार, 8 जुलाई 2009

आज का सद़विचार 'विद्या '

मनुंष्‍य का सच्‍चा जीवन साथी विद्या ही है,
जिसके कारण वह विद्वान कहलाता है ।

- स्‍वामी दयानन्‍द

मंगलवार, 7 जुलाई 2009

आज का सद़विचार 'दोष'

जिन दोषों को हम दूसरों में देखते हैं,
उन्‍हें अपने में न रहने दें इसका सदा
ध्‍यान रखना चाहिए ।
- मोनेंडर

सोमवार, 6 जुलाई 2009

आज का सद़विचार 'धैर्य '

धैर्यवान व्‍यक्ति ही समय पर विजय पाता है
और असंयमी व्‍यक्ति अपने स्‍वभाव के
कारण सब कुछ खो देता है ।

- अज्ञात

शनिवार, 4 जुलाई 2009

आज का सद़विचार 'मन'

मन इच्‍छाओं की गठरी है, जब तक
इच्‍छाओं को उखाड़कर नहीं फेंका
जाएगा, तब तक मन को नष्‍ट
करने की आशा व्‍यर्थ होगी ।

- श्री सत्‍यसाईं

बुधवार, 1 जुलाई 2009

आज का सद़विचार 'विधि'

धर्म जीवन को परमात्‍मा में जीने की विधि है,
संसार में ऐसे जिया जा सकता है जैसे,
कमल सरोवर के कीचड़ में जीते हैं ।

- आचार्य रजनीश