Click here for Myspace Layouts

समर्थक

शुक्रवार, 29 जनवरी 2010

आज का सद़विचार 'प्रशंसा'

जो लोग अपनी प्रशंसा के भूखे होते हैं,
वे साबित करते हैं कि उनमें योग्‍यता
नहीं है, जिनमें योग्‍यता है उनका
ध्‍यान उस ओर जाता ही नहीं है ।

- महात्‍मा गांधी

गुरुवार, 28 जनवरी 2010

आज का सद़विचार 'मित्रों का चयन'

जब आप अपने मित्रों का चयन करते हैं,
तो चरित्र के स्‍थान पर व्‍यक्तित्‍व को न चुने ।

- डब्‍ल्‍यू सोमरसेट मोघम

गुरुवार, 21 जनवरी 2010

आज का सद़विचार 'काम'

वह पुरूष धन्‍य है जो काम करने में
कभी पीछे नहीं हटता, भाग्‍यलक्ष्‍मी
उसके घर की राह पूछती हुई चली
आती है ।

- भगवान महावीर

बुधवार, 20 जनवरी 2010

आज का सद़विचार 'उपलब्धियां'

ऐसे सभी व्‍यक्ति जिन्‍होंने महान
उपलब्धियां हासिल की हैं, वह
महान स्‍वप्‍नदृष्‍टा भी होते हैं ।

- ओरिसन स्‍वेट मार्डन

शनिवार, 16 जनवरी 2010

आज का सद़विचार 'जिन्‍दगी'

जीवन वह नहीं है जिसकी आप चाहत रखते हैं,
बल्कि वह तो वैसा बन जाता है जैसा आप
इसे बनाते हैं ।

- एंथनी रयान

बुधवार, 13 जनवरी 2010

आज का सद़विचार 'अपराध'

दुनिया में सबसे बड़ा अपराध अपनी संभावनाओं ,
का विकास न करना है, जब आप कोई भी काम
बेहतर तरीके से करते हैं तो न केवल अपनी मदद
करते हैं बल्कि पूरी दुनिया की मदद करते हैं ।

- रोजर विलियम्‍स

मंगलवार, 12 जनवरी 2010

आज का सद़विचार 'हिस्‍सा'

सफलता की कामना करने वाले व्‍यक्ति
को शीर्ष पर पहुंचने की प्रक्रिया के एक
हिस्‍से के रूप में असफलता को एक
स्‍वस्‍थ, अपरिहार्य हिस्‍सा मानना चाहिए ।

- डॉ. जोएस ब्रदर्स

सोमवार, 11 जनवरी 2010

आज का सद़विचार 'लक्ष्‍य'

अपनी सफलता अथवा असफलता की,
संभावनाओं के आंकलन में समय नष्‍ट
न करें, केवल अपना लक्ष्‍य निर्धारित
करें और काम शुरू कर दें ।

- गुआन यिन त्‍जू

मंगलवार, 5 जनवरी 2010

आज का सद़विचार 'चरित्र'

अपना चरित्र उज्‍जवल होने पर भी सज्‍जन,
अपना दोष ही सामने रखते हैं, अग्नि का
तेज उज्‍जवल होने पर भी वह पहले धुंआ
ही प्रकट करता है ।

- कर्णपूर

सोमवार, 4 जनवरी 2010

आज का सद़विचार 'सेवा'

सेवा के लिये पैसे की जरूरत नहीं होती
जरूरत है अपना संकुचित जीवन छोड़ने
की, गरीबों से एकरूप होने की ।


- विनोबा भावे

शनिवार, 2 जनवरी 2010

आज का सद़विचार 'संदेश'

कठिनाईयां भगवान का संदेश होती हैं,
उनका सामना करते समय हमें भगवान
के विश्‍वास के रूप में, भगवान से अभिनंदन
के रूप में उनका सम्‍मान करना चाहिये ।

- हेनरी वार्ड बीचर

शुक्रवार, 1 जनवरी 2010

आज का सद़विचार 'आलस्‍य'

आलस्‍य मृत्‍यु के समान है, और केवल
उद्यम ही आपका जीवन है ।

- स्‍वामी रामतीर्थ


'' नववर्ष आप सभी के लिये मंगलमय हो ''