Click here for Myspace Layouts

समर्थक

शनिवार, 1 अगस्त 2009

आज का सद़विचार 'अवगुण'

जब तक तुम्‍हारें अन्‍दर दूसरों के,
अवगुण ढुंढने या उनके दोष देखने,
की आदत मौजूद है ईश्‍वर का साक्षात,
करना अत्‍यंत कठिन है ।

- स्‍वामी रामतीर्थ

1 टिप्पणी:

यह सद़विचार आपको कैसा लगा अपने विचारों से जरूर अवगत करायें आभार के साथ 'सदा'