Click here for Myspace Layouts

समर्थक

मंगलवार, 9 अक्तूबर 2012

आज का सद़विचार '' छोटे बनकर रहो ''

दूब की तरह छोटे बनकर रहो, 
जब घास-पात जल जाते हैं 
तब भी दूब जस की तस बनी रहती है ..
- गुरू नानक देव

7 टिप्‍पणियां:

  1. सार्थक ...विचार ...
    आभार सदा जी ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. कथन थोड़ा गड्डमड्ड लगता है। घास-पात की जगह,विशालकाय पेड़ अथवा ऐसी ही अर्थछाया वाला कोई शब्द होना चाहिए था। अन्यथा,जब घास जलेगी,दूब का बचना मुश्किल होगा!

    उत्तर देंहटाएं
  3. सार्थक ...विचार ...
    आभार सदा जी ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. सार्थक ...विचार ...
    आभार सदा जी ...!!

    उत्तर देंहटाएं

यह सद़विचार आपको कैसा लगा अपने विचारों से जरूर अवगत करायें आभार के साथ 'सदा'