Click here for Myspace Layouts

समर्थक

बुधवार, 19 नवंबर 2014

आज का सद़विचार 'खुशियों के बीज़'

खुशियों के बीज़ बोने पड़ते हैं 
दर्द की कँटीली बाडि़याँ उग आती हैं खुद-ब-खुद

सीमा ‘सदा’

1 टिप्पणी:

यह सद़विचार आपको कैसा लगा अपने विचारों से जरूर अवगत करायें आभार के साथ 'सदा'