Click here for Myspace Layouts

समर्थक

मंगलवार, 30 जून 2009

आज का सद़विचार 'विचार'

ईर्ष्‍या या घृणा के के विचार मन में प्रवेश
होते ही खुशी गायब हो जाती है, प्रेम व
शुभ-भावना युक्‍त विचारों से उदासी
दूर हो जाती है ।

- अज्ञात

26 टिप्‍पणियां:

  1. Sudar "sadayen" hain ye..!

    http://shamasansmaran.blogspot.com

    http://kavitasbyshama.blogspot.com

    http://shama-kahanee.blogspot.com

    http://shama-baagwaanee.blogspot.com

    http://aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    http://fiberart-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  2. विचारों का प्रवाह मनुष्य के मष्तिष्क की एक सामान्य प्रक्रिया है
    पर सद विचार ही आयें,उसके लियेसत्संग आवश्यक है .
    सद विचार रखने वाले लोग आपको निरंतर सद विचारों के प्रति प्रोत्साहित करेंगे .
    साथ ही विचारों के प्रवाह को नियंत्रित करना भी अति आवश्यक है
    अवांछनीय विचार मष्तिष्क में आते ही उन्हें परिष्कृत करना भी सीखना पडेगा.
    तत्काल कुछ और कार्य में अपने को तल्लीन करना चाहिए

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  3. sad vichar bahut hi chhe or shiksha prad hai or jiwan me utarne yogiya hai..... aise hi marg darshan or sadvichar dete rahia..........

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  4. Sona tap kar he nikharta hai,hamko kabhi haar nahi manhi chahiye or apne path par aage barta rahna chahiye

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  5. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  6. Divas gavaya khaye ke!
    Raat gavaye soye!
    hira janam anmol tha!
    kodi badle jaye!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  7. Paise ke piche mat bhago paise ke piche bhagne se insaan ke aatmik sadbhav samapt hote hai kuch aise karam Karo ki paisa aapke piche bhaage

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  8. race me jitne wale ghode ko pata bhi nahi hota ki jeet vastav me kya he . wo to apne malik dwara di gai taqlif ki vajah se dodta he ,to jivan me jab bhi apko taqlif pade or koi maarg na dikhai de tab samajh jaiyega ki malik apko jitana chahta he.,

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  9. race me jitne wale ghode ko pata bhi nahi hota ki jeet vastav me kya he . wo to apne malik dwara di gai taqlif ki vajah se dodta he ,to jivan me jab bhi apko taqlif pade or koi maarg na dikhai de tab samajh jaiyega ki malik apko jitana chahta he.,

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं

यह सद़विचार आपको कैसा लगा अपने विचारों से जरूर अवगत करायें आभार के साथ 'सदा'