Click here for Myspace Layouts

समर्थक

गुरुवार, 10 सितंबर 2009

आज का सद़विचार 'विष-वृक्ष'

उस मनुष्‍य की सम्‍पत्ति, जिसे लोग
प्‍यार नहीं करते हैं, गांव के बीचों-
बीच किसी विष-वृक्ष के फलने के
समान है ।

- तिरूवल्‍लुवर

1 टिप्पणी:

यह सद़विचार आपको कैसा लगा अपने विचारों से जरूर अवगत करायें आभार के साथ 'सदा'