Click here for Myspace Layouts

समर्थक

गुरुवार, 22 अक्तूबर 2009

आज का सद़विचार 'शेष'

शेष ऋण, शेष अग्नि, तथा शेष रोग पुन: पुन: बढ़ते हैं,
अत: इन्‍हें शेष नहीं छोड़ना चाहिये ।

- अज्ञात

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह सद़विचार आपको कैसा लगा अपने विचारों से जरूर अवगत करायें आभार के साथ 'सदा'