Click here for Myspace Layouts

समर्थक

बुधवार, 3 नवंबर 2010

आज का सद़विचार '' त्‍याग ''

धन से नहीं, संतान से भी नहीं अमृत स्थिति
की प्राप्ति केवल त्‍याग से ही होती है ।

- स्‍वामी विवेकानन्‍द

9 टिप्‍पणियां:

  1. त्याग से बढ़कर कुछ भी नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. इसी तरह आप से बात करूंगा
    मुलाक़ात आप से जरूर करूंगा

    आप
    मेरे परिवार के सदस्य
    लगते हैं
    अब लगता नहीं कभी
    मिले नहीं है
    आपने भरपूर स्नेह और
    सम्मान दिया
    हृदय को मेरे झकझोर दिया
    दीपावली को यादगार बना दिया
    लेखन वर्ष की पहली दीवाली को
    बिना दीयों के रोशन कर दिया
    बिना पटाखों के दिल में
    धमाका कर दिया
    ऐसी दीपावली सब की हो
    घर परिवार में अमन हो
    निरंतर दुआ यही करूंगा
    अब वर्ष दर वर्ष जरिये कलम
    मुलाक़ात करूंगा
    इसी तरह आप से
    बात करूंगा
    मुलाक़ात आप से
    जरूर करूंगा
    01-11-2010

    उत्तर देंहटाएं
  3. बशर्ते,यह ध्यान न रहे कि आप त्याग कर रहे हैं।

    उत्तर देंहटाएं

यह सद़विचार आपको कैसा लगा अपने विचारों से जरूर अवगत करायें आभार के साथ 'सदा'