Click here for Myspace Layouts

समर्थक

सोमवार, 30 अगस्त 2010

आज का सद़विचार ' दान '

इस विश्‍व में स्‍वर्ण, गाय और धरती का,
दान देने वाले सुलभ हैं, लेकिन प्राणियों
को अभयदान देने वाले इंसान दुर्लभ हैं ।

- भर्तृहरि

गुरुवार, 26 अगस्त 2010

आज का सद़विचार ' बीज '

असफलता का मौसम सफलता
के बीज बोने के लिए सर्वश्रेष्‍ठ
समय होता है ।


- परमहंस योगानन्‍द

बुधवार, 25 अगस्त 2010

आज का सद़विचार ' वश'

जिसने स्‍वयं को वश में कर लिया है,
संसार की कोई शक्ति उसकी विजय,
को पराजय में नहीं बदल सकती ।


- महात्‍मा बुद्ध

सोमवार, 23 अगस्त 2010

आज का सद़विचार 'बुद्धि'

बुद्धि के सिवाय विचार प्रचार का
कोई दूसरा शस्‍त्र नहीं है, क्‍योंकि
ज्ञान ही अन्‍याय को मिटा सकता है ।

- शंकराचार्य

शुक्रवार, 20 अगस्त 2010

आज का सद़विचार 'प्रतिशोध'

प्रतिशोध लेते समय मनुष्‍य अपने शत्रु के
समान ही होता है, लेकिन उसकी उपेक्षा
कर देने पर वह उससे बड़ा हो जाता है ।

- फ्रांसिस बेकन

बुधवार, 18 अगस्त 2010

आज का सद़विचार तौर-तरीके

जिस तरह अच्‍छे तौर तरीके बनाए रखने के लिए
कानून जरूरी है, उसी तरह कानूनों के पालन के
लिए अच्‍छे तौर तरीके जरूरी है ।

- माक्‍यावैलि

शुक्रवार, 13 अगस्त 2010

आज का सद़विचार 'समय'

समय और स्‍वास्‍थ्‍य दो बहुमूल्‍य संपत्तियां हैं,
जिनकी पहचान तथा मूल्‍य हम उस समय
तक नहीं समझते जब तक उनका नाश
नहीं हो जाता ।
डेनिस वेटले

गुरुवार, 12 अगस्त 2010

आज का सद़विचार स्‍वास्‍थ्‍य

धनवान बनने के लिये अपने स्‍वास्‍थ्‍य को
कभी भी जोखिम में न डालें, क्‍योंकि यह
सच है कि स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍त संपत्तियों में
से श्रेष्‍ठ संपत्ति है ।


- रिचर्ड बेकर

शनिवार, 7 अगस्त 2010

आज का सद़विचार ' आंसू भरी आंखे '

यदि तुम जीवन से सूर्य के जाने पर रो पड़ोगे
तो आंसू भरी आंखे सितारे कैसे देख सकेंगी ।

- रवीन्‍द्रनाथ ठाकुर

गुरुवार, 5 अगस्त 2010

आज का सद़विचार ' वैराग्‍य '

भोग में रोग का, उच्‍चा-कुल में पतन का,
मान में अपमान का, बल में शत्रु का रूप
में बुढ़ापे का और शास्‍त्र में विवाद का डर
है, भय रहित तो केवल वैराग्‍य ही है ।

- भगवान महावीर