Click here for Myspace Layouts

समर्थक

शुक्रवार, 13 नवंबर 2009

आज का सद़विचार 'इच्‍छा रूपी समुद्र'

इच्‍छा रूपी समुद्र सदा अतृप्‍त रहता है
उसकी मांगे ज्‍यों-ज्‍यों पूरी की जाती हैं,
त्‍यों-त्‍यों और गर्जन करता है ।

- स्‍वामी विवेकानन्‍द

1 टिप्पणी:

  1. सत्य! पर इच्छा न हो तो जीवन रुक जाये. धार्मिक कथाओं में भी प्रभु जब प्रसन्न होटल हैं तो कहते हैं, बतओ वत्स तुम्हारी इच्छा क्या है?

    उत्तर देंहटाएं

यह सद़विचार आपको कैसा लगा अपने विचारों से जरूर अवगत करायें आभार के साथ 'सदा'