Click here for Myspace Layouts

समर्थक

मंगलवार, 5 जुलाई 2011

आज का सद़विचार '' आज की याद ''

बीता कल आज की याद है, और
आने वाला कल आज का स्‍वप्‍न ...।


- खलील जिब्रान

6 टिप्‍पणियां:

  1. दो पंक्तियों में भूत , वर्तमान और भविष्य तीनो को समेटा हुआ सदविचार

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया लगा ! सटीक लिखा है आपने!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं

यह सद़विचार आपको कैसा लगा अपने विचारों से जरूर अवगत करायें आभार के साथ 'सदा'