Click here for Myspace Layouts

समर्थक

शनिवार, 17 सितंबर 2011

आज का सद़विचार ' हिंदी हमारी मातृभाषा है'

हिंदी हमारी मातृभाषा है, हमारा गर्व है
क्या करें - दूर के ढोल सुहाने लगते हैं
और उस ढोल पर चाल (स्टाइल) बदल जाती है ...!!!

- रश्मि प्रभा

... आज का सद़विचार ब्‍लॉगजगत से ....

7 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुबह के भूलों के लिये मधुर प्यारा सा कटाक्ष.

    उत्तर देंहटाएं

यह सद़विचार आपको कैसा लगा अपने विचारों से जरूर अवगत करायें आभार के साथ 'सदा'