Click here for Myspace Layouts

समर्थक

शुक्रवार, 24 फ़रवरी 2012

आज का सद़विचार '' कार्य - धर्म - गुण ''

घृणा करना शैतान का कार्य है, 
क्षमा करना मनुष्‍य का धर्म है 
और प्रेम करना देवताओं का गुण है .... 

- भतृ‍हरि 

4 टिप्‍पणियां:

  1. हम चाहें तो देवता भी बन सकते हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  2. bahut sunder vichaar hai .badhaai aapko .

    आपकी पोस्ट आज की ब्लोगर्स मीट वीकली (३२) में शामिल किया गया है /आप आइये और अपने विचारों से हमें अवगत करिए /आप सबका आशीर्वाद और स्नेह इस मंच को हमेशा मिलता रहे यही कामना है /आभार /इस मीट का लिंक है
    http://hbfint.blogspot.in/2012/02/32-gayatri-mantra.html

    उत्तर देंहटाएं

यह सद़विचार आपको कैसा लगा अपने विचारों से जरूर अवगत करायें आभार के साथ 'सदा'