Click here for Myspace Layouts

समर्थक

बुधवार, 11 अप्रैल 2012

आज का सद़विचार '' सभी को घमंड होता है ''

प्रभुता महत्‍व और पद पाकर सभी को घमंड होता है, 
मनुष्‍य रूप में ऐसा कोई नहीं पैदा हुआ जो तीनों को 
पाकर नम्र रहे .... 

- रामचरित मानस 

8 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. यह भी मनुष्य के स्वभाव का एक अंग ही है!.....सुन्दर विचार!

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रभुसत्ता अहंकार की जननी है। महान है जो अलिप्त रहते है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अफ़सोस,कि कइयों को तो इसका अहसास भी नहीं होता।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    की ओर से शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. घमंड मनुष्य के व्यक्तित्व का अभिन्न अंग है किसी में अधिक किसी में कम
    पर इसका स्तर व्यक्ति के सोच पर निर्भर है
    दूसरों के प्रति असम्मान नहीं हो ,किसी को व्यथित नहीं करे,स्वयं को मानसिक,शररीरिक हानी नहीं हो
    तो थोड़ा घमंड विशेष कर अगर सिद्धांत को लेकर हो तो अनुचित नहीं मानता
    कई बार सिद्धान्वादी लोगों को भी लोग घमंडी कहते हैं
    प्रभुता महत्त्व,और पद पा कर मनुष्य अवस्य ही गौरव का अनुभव करता है,कई बार वह घमंड की सीमा तक पहुँच जाता है,पर उसका सीमांकन भी आसान नहीं है,उचित और अनुचित में बहुत महीन रेखा होती है

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत बेहतरीन....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. सही कहा है, लेकिन घमंड व्यक्ति को उसकी प्रभुता से गिरा देता है.

    उत्तर देंहटाएं

यह सद़विचार आपको कैसा लगा अपने विचारों से जरूर अवगत करायें आभार के साथ 'सदा'