Click here for Myspace Layouts

समर्थक

गुरुवार, 5 नवंबर 2009

आज का सद़विचार 'आंतरिक दुर्बलता'

व्‍यक्ति को हानि, पीड़ा और चिंताएं,
उसकी किसी आंतरिक दुर्बलता के
कारण होती है, उस दुर्बलता को दूर
करके कामयाबी मिल सकती है ।

- स्‍वामी रामतीर्थ

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह सद़विचार आपको कैसा लगा अपने विचारों से जरूर अवगत करायें आभार के साथ 'सदा'