Click here for Myspace Layouts

समर्थक

शनिवार, 7 नवंबर 2009

आज का सद़विचार 'सत्‍य'

सत्‍य से सूर्य तपता है, सत्‍य से आग
जलती है,सत्‍य से वायु बहती है
सब कुछ सत्‍य में ही प्रतिष्ठित है ।

- वेदव्‍यास

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

यह सद़विचार आपको कैसा लगा अपने विचारों से जरूर अवगत करायें आभार के साथ 'सदा'