Click here for Myspace Layouts

समर्थक

शुक्रवार, 18 दिसंबर 2009

आज का सद़विचार 'जिन्‍दगी'

जिन्‍दगी वैसी नहीं है जैसी आप इसके
लिये कामना करते हैं, यह तो वैसी बन
जाती है, जैसा आप इसे बनाते हैं ।

- एंथनी रयान

4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत अच्छा विचार
    बहुत -२ बधाइयाँ........................

    उत्तर देंहटाएं
  2. लाजवाब पंक्तियाँ
    बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. इतनी बढ़िया रचना पर मेरा ध्यान क्यों नही गया?
    बहुत ही सुन्दर लिखा है आपने

    उत्तर देंहटाएं
  4. शुक्रिया सदा जी ,
    मेरी ग़ज़ल पर पहला comment आपका ही था ,तो जब मैंने जवाब देने का सिलसिला शुरू किया तो यही 'सदविचार' आया कि सबसे पहले आपसे मुलाक़ात करती चलूँ .इतने अच्छे -अच्छे विचार पढ़ कर वाक़ई बहुत अच्छा लगा .

    उत्तर देंहटाएं

यह सद़विचार आपको कैसा लगा अपने विचारों से जरूर अवगत करायें आभार के साथ 'सदा'