Click here for Myspace Layouts

समर्थक

शुक्रवार, 29 अप्रैल 2011

आज का सद़विचार '' मूर्ति ''

जो व्‍यक्ति इंसान की बनाई मूर्ति की पूजा करता है,
लेकिन भगवान की बनाई मूर्ति (इंसान) से नफरत
करता है, वह भगवान को कभी प्रिय नहीं हो सकता ....।


- स्‍वामी ज्‍योतिनंद

मंगलवार, 26 अप्रैल 2011

आज का सद़विचार '' कर्म प्रधान ''

ईश्‍वर ने संसार को कर्म प्रधान बना रखा है,
इसमें जो मनुष्‍य जैसा कर्म करता है उसको,
वैसा ही फल प्राप्‍त होता है ..... ।।


- गोस्‍वामी तुलसीदास

सोमवार, 25 अप्रैल 2011

आज का सद़विचार '' रोशनी और जुगनू ''

एक शब्‍द और लगभग सही शब्‍द में ठीक उतना ही
अंतर है जितना कि रोशनी और जुगनू में ..... ।

- मार्क ट्वेन

शनिवार, 23 अप्रैल 2011

आज का सद़विचार '' पूरे शरीर में विष ''

सांप के दांत में विष रहता है, मक्‍खी के सर में,
बिच्‍छूं की पूंछ में, किन्‍तु दुर्जनों के पूरे शरीर में
विष रहता है ..... ।।
- अज्ञात

गुरुवार, 21 अप्रैल 2011

आज का सद़विचार '' अगली बार ''

सफल होने के लिये असफलता आवश्‍यक है,
ताकि आपको यह पता चल सके कि अगली
बार क्‍या नहीं करना है .... ।


- एंथनी जे. डिएंजेलो

बुधवार, 20 अप्रैल 2011

आज का सद़विचार '' स्‍वभाव ''

फल के आने से वृक्ष झुक जाते हैं, वर्षा के समय
बादल झुक जाते हैं, सम्‍पत्ति रहकर भी सज्‍जन
झुक जाते हैं, परोपकारी का यही स्‍वभाव होता है ।


- अज्ञात

सोमवार, 18 अप्रैल 2011

आज का सद़विचार '' समझौता ''

समझौता एक अच्छा छाता
भले बन सकता है लेकिन
अच्छी छत नहीं ....
‍‍

- अज्ञात

शुक्रवार, 15 अप्रैल 2011

आज का सद़विचार '' गुणों को अपनाने का ''''

किसी के गुणों की प्रशंसा करने में,
अपना समय मत बरबाद मत करो,
उसके गुणों को अपनाने का प्रयास करो ।


- कार्ल मार्क्‍स

बुधवार, 13 अप्रैल 2011

आज का सद़विचार '' बिना ग्रंथ के ''

बिना ग्रंथ के ईश्वर मौन है,
न्याय निद्रित है, विज्ञान स्तब् है
और सभी वस्तुएं पूर्ण अंधकार में हैं ...।।
‍‍‍‍‍

- मुक्‍ता

सोमवार, 11 अप्रैल 2011

आज का सद़विचार '' हंसमुख व्‍यक्ति

हंसमुख व्‍यक्ति वह फुहार है,
जिसके छींटे सबके मन को
ठंडा करते हैं ....।।

- अज्ञात

गुरुवार, 7 अप्रैल 2011

आज का सद़विचार '' हर अवसर में ''

आशावादी व्‍यक्ति हर आपदा में एक
अवसर देखता है, निराशावादी व्‍यक्ति
हर अवसर में एक आपदा देखता है ...।


- विन्‍सटन चर्चिल

बुधवार, 6 अप्रैल 2011

आज का सद़विचार '' सपने वे हैं ''

सपना वो नह‍ीं जो नींद में आए,
सपने वे हैं जिसे पूरा किए बिना नींद न आए ।


- अज्ञात

सोमवार, 4 अप्रैल 2011

आज का सद़विचार '' जब हर मनुष्‍य ''

जब हर मनुष्‍य अपने आप परएक - दूसरे पर
विश्‍वास करने लगेगा, आस्‍थावान बन जाएगा

तो यह धरती ही स्‍वर्ग बन जाएगी .....।।

- स्‍वामी विवेकानन्‍द

शनिवार, 2 अप्रैल 2011

आज का सद़विचार '' ज्ञान की ज्‍योति ''

ज्ञान की बातें सुनकर जो उन पर
अमल करता है उसी के हृदय में
ज्ञान की ज्‍योति प्रकट होती है...।


- अबू उस्‍मान