Click here for Myspace Layouts

समर्थक

सोमवार, 24 जनवरी 2011

आज का सद़विचार '' व्‍यंग्‍य ''

दूसरों पर किये गये व्‍यंग्‍य पर हम,
हंसते हैं पर अपने ऊपर किये गये
व्‍यंग्‍य पर रोना तक भूल जाते हैं ।

- रामचन्‍द्र शुक्‍ल

9 टिप्‍पणियां:

  1. आह!! व्यंग्य पर सटीक व्यंग्य है यह विचार

    उत्तर देंहटाएं
  2. जिसने अपने पर हँसना सीख लिया उसने जग जीत लिया !

    उत्तर देंहटाएं
  3. मनोहर श्‍याम जोशी जी का वाक्‍य है- कितना त्रासद है यह हास्‍य और कितना हास्‍यास्‍पद है यह त्रास.

    उत्तर देंहटाएं
  4. अपने पर हंसने वाले आज कितने हैं.बहुत अनुकरणीय विचार.

    उत्तर देंहटाएं
  5. well said..
    Happy Republic Day..गणतंत्र िदवस की हार्दिक बधाई..

    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Download Free Latest Bollywood Music

    उत्तर देंहटाएं

यह सद़विचार आपको कैसा लगा अपने विचारों से जरूर अवगत करायें आभार के साथ 'सदा'