Click here for Myspace Layouts

समर्थक

बुधवार, 8 जून 2011

आज का सद़विचार '' आध्‍यात्‍म ''

जहाँ सारे तर्क ख़त्म हो जाते हैं,
वहाँ से आध्यात्म शुरू होता है ...।

- रश्मि प्रभा

आज सद़विचार पर हैं ब्‍लॉग जगत से रश्मि प्रभा जी ...


3 टिप्‍पणियां:

  1. सही कहा है ..जहाँ तर्क होता है वहां भावना नहीं .....और आध्यात्म के लिए भाव का होना आवशयक है .....आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर विचार ! आत्मा तर्कातीत है...

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस सृष्टि में कुछ भी तर्कविहीन नहीं है.सृष्टि के हर नियम के पीछे कोई तर्क होता है. यदि हमारे पास अभी उसे समझने लायक ज्ञान नहीं है तो इसका यह अर्थ नहीं है कि तर्क नहीं है या कभी भी हम उसे कभी भी नहीं समझ पाएँगे.
    यदि भावनाओं कि चीर फाड़ करें तो उसके पीछे भी कोई तर्क ही मिलेगा.जैसे हम किसी विशेष तरह के व्यक्ति को क्यों पसंद करते हैं. किस गंध, किस तरह के जींस वाले व्यक्ति को अधिक पसंद करते हैं आदि. किससे भयभीत होते हैं या किसको स्वीकार करते हैं, किसका विरोध करते हैं आदि.
    घुघूती बासूती
    घुघूती बासूती

    उत्तर देंहटाएं

यह सद़विचार आपको कैसा लगा अपने विचारों से जरूर अवगत करायें आभार के साथ 'सदा'