Click here for Myspace Layouts

समर्थक

शुक्रवार, 10 जुलाई 2009

आज का सद़विचार 'स्‍वप्‍न'

लक्ष्‍य को ही अपना जीवन कार्य समझो हर,
समय उसका चिंतन करो उसी का स्‍वप्‍न,
देखो और उसी के सहारे जीवित रहो ।

- स्‍वामी विवेकानन्‍द

6 टिप्‍पणियां:

  1. बड़ा ही नेक काम कर रही हैं आप महा पुरषों के उपदेश प्रस्तुत करके आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. aap apane blog se shabd pushtikaran hata den to tippani karane me suvidha hogi or apko tippaniya bhi jyada milengi dhanyavad .

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं

यह सद़विचार आपको कैसा लगा अपने विचारों से जरूर अवगत करायें आभार के साथ 'सदा'